Tuesday, 15 March 2016

फिर एक आह सी निकल पड़ी है दिल से
जिंदगी फिर आज तुमसे हमने समझौता कर लिया   (वन्दना )

No comments: