Wednesday, 11 May 2016

पढ़ी थी मैंने उसकी ख़ामोश आँखों में इक कहानी......
बहा न पाया  था मेरी याद को उसके आँख का पानी। 

No comments: