Tuesday, 24 May 2016

उसने भी खुद को इतना मसरूफ कर लिया 
की खुद से  भी मिलने का वक़्त नहीं मिलता (वंदना)

No comments: