Monday, 6 June 2016

कभी अंगार उगलता सूरज
कभी प्यार बरसाता  बादल
तुम आ जाते अगर जीवन में तो
मौसम को रोज बदलना न पड़ता....... वंदना 

No comments: