Monday, 19 September 2016

पता

मेरा पता  मेरे नाम में नहीं
घर के द्वार पर  नहीं
इ-मेल ई.डी पर नहीं
फ़ोन की डिरेक्ट्री  में भी नहीं
किसी के कांटेक्ट लिस्ट में नहीं
किसी भी गाँव , शहर , दूकान, मकान
पर  नहीं
पता तो मेरा ये है की
हज़्ज़ारो हमनाम लोगों में भी
जब आपको मेरी  याद आए
तो सिर्फ और सिर्फ मेरा  चेहरा
आपकी जहन में  आए

No comments: