Monday, 27 February 2017

कलम के होठों पे भी पीड़ा की बूँद है
पर लिखती नहीं कभी भी खुद से खुद को. 

No comments: