Wednesday, 30 August 2017

एक कहानी

कुछ कदमो की बात थी ? या कुछ जन्मों की बात थी?
हमे मालूम है ये  बस साथ चलने की बात थी.
मिले थे हम-तुम भी  कभी आँख के  इशारे पर
पलक झपकी तो आंसू की भी एक कहानी थी

No comments: